Home Biology Respiratory System OF PILA । Ampullariidae Respiratory System Information In Hindi। Interesting...

Respiratory System OF PILA । Ampullariidae Respiratory System Information In Hindi। Interesting Fact Of PILA । Part 3

Respiratory System OF PILA

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है Respiratory System OF PILA । इस आर्टिकल से संबंधित सभी जानकारी मैं देनेका प्रयास करूंगा ओर साथ ही इससे मिलते जुलते टॉपिक्स की भी जानकारीकी लिंक मैं बीच बीच मे दे रहा हु।

आप उसे जाकर भी पढ़ सकते है।मुझे विश्वास है कि आपको ये ओर मेरे बाकी आर्टिकल भी बहुत पसंद आएंगे। अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आता है तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करनेके लिए बिल्कुल भी संकोच न करे.दोस्तो मैं ऐसेही अलग अलग नए नए आर्टिकल जो जानकारी से परिपूर्ण होते है.Respiratory System OF PILA

वो अपने इस ब्लॉग पर डालते रहता हूं अगर आपने उसकी नोटिफिकेशन पाना चाहते है तो हमारे फेसबुक इंस्टाग्राम account को जरूर फॉलो करें । हम वहां अपने नए ब्लॉग की नोटिफिकेशन अपडेट करते रहते है । तो चलिए अब बिना किसी देरीक़े अपने इस आर्टिकल Respiratory System OF PILA को शुरू करते है.

PILA Information in Hindi । Ampullariidae Information In Hindi । Interesting Fact Of PILA । Part 1

Digestive System Of PILA । Ampullariidae Digestive System Information In Hindi । Interesting Fact Of PILA । Part 2

श्वसन प्रणाली / Respiratory System

पिला प्रकृति में उभयचर है इसलिए इसमें श्वसन के जलीय और स्थलीय (एरियल) मोड होते हैं । पिला की श्वसन प्रणाली में निम्नलिखित अंग शामिल हैं:

क) जलीय श्वसन के लिए केटिडियम या गिल

ख) श्वसन के लिए फुफ्फुसीय थैली (Pulmonary Sac)।

c) साइफन (Siphones )के गठन के लिए न्यूचल लॉब (Nuchal Lobes)।

क) केटिडियम (Ctenidium) :

1) केलिडियम या गिल का पेला मोनोपेक्टिनेट होता है यानी लैमेला को एक ही पंक्ति में व्यवस्थित किया जाता है।

2) यह मेंटल कैविटी के ब्रांचियल चेंबर के दाहिनी ओर होता है।

3) केटिडियम में बड़ी संख्या में लैमेला होते हैं।Respiratory System OF PILA

4)प्रत्येक लामेला में व्यापक आधार और संकीर्ण एपेक्स होता है।

5) लामेल्ला को कैंटिडियल एक्सिस के माध्यम से मेंटल से जोड़ा जाता है।

६) लामेल्ला एक दूसरे के समानांतर लेट जाते हैं लेकिन सटीनी धुरी पर समकोण होते हैं।

7) केटिडियम की मध्य लामेल्ला सबसे बड़ी होती है और धीरे-धीरे दोनों सिरों की ओर आकार में कम हो जाती है।

8) प्रत्येक लामेला की दो भुजाएँ होती हैं- छोटी दाईं ओर और बाईं ओर लंबी।

९) छोटे दाएं भाग को अभिवाही पोत से रक्त प्राप्त होता है जिसे अभिवाही पक्ष कहा जाता है।

१०) एक लम्बी बायीं ओर, जहाँ से रक्त अपवाही बर्तन में जाता है, अपवाही पक्ष कहलाता है।

11) प्रत्येक लैमेला की दोनों सपाट सतहों में अनुप्रस्थ लकीरें या प्लेटें होती हैं। Respiratory System OF PILA

12) ये अनुप्रस्थ पटल आधार से धीरे-धीरे शीर्ष की ओर छोटे होते जाते हैं।

13) इन अनुप्रस्थ प्लेटों को रक्त वाहिकाओं के साथ बड़े पैमाने पर आपूर्ति की जाती है।

केटिडियम की रक्त की आपूर्ति ( Blood Supply of Ctenidium ):

1) अभिवाही शिरा ऑक्सीकरण के लिए प्रत्येक गिल लैमेला को deoxygenated रक्त की आपूर्ति करता है।

2) ऑक्सीजन युक्त रक्त को फुफ्फुसीय शिरा द्वारा सभी लैमेला से एकत्र किया जाता है।

केटिडियम का ऊतक विज्ञान (History Of Ctenidium) :

1) प्रत्येक लैमेला एक संकरी जगह से अलग होकर शाखात्मक उपकला की दो परतों से बनता है।

2) उपकला में तीन प्रकार की कोशिकाएँ होती हैं-

  • i) गैर-सिलिअटेड स्तंभ (उपकला) कोशिकाएँ।
  • ii) विलयनित स्तंभ (उपकला) कोशिकाएं।
  • iii) ग्रंथि कोशिकाएं।

3) बेसमेंट झिल्ली (Basement Membrane) पर उपकला रखा गया है।

4) तहखाने की झिल्ली के नीचे संयोजी ऊतक और मांसपेशियां स्थित होती हैं।

5) और सबसे बाहरी अस्तर मेंटल (Palial) उपकला है।Respiratory System OF PILA

केटिडियल या एक्वाटिक या ब्रान्चियल श्वसन का तंत्र:

1) पिला पानी में ctenidia (गलफड़े) द्वारा प्रतिक्रिया करता है; इसलिए इसे जलीय श्वसन भी कहा जाता है।

2)इस प्रकार का श्वसन तब होता है जब पशु पानी के नीचे होता है।

3) जलीय श्वसन के लिए पशु पानी में घुली ऑक्सीजन पर निर्भर करता है।

४) जानवरों का सम्मान करते हुए उसका सिर और पैर खोल के बाहर निकाल दिया जाता है।

5) एक ही समय में बाईं ओर के नलिका का लोब आकार में बढ़ जाता है और एक फ़नल जैसा चैनल बनाता है।

6) पानी इस कीप के माध्यम से प्रवेश करता है और osphradium के संपर्क में आता है।

7) फिर पानी फुफ्फुसीय कक्ष के पीछे के हिस्से तक पहुंचता है। Respiratory System OF PILA

8) फुफ्फुसीय कक्ष से यह शाखीय कक्ष में प्रवेश करता है जहाँ पर ctenidia (गलफड़े) मौजूद होते हैं।

9) पानी पूरी तरह से साइंटिडियम स्नान करता है, इस स्तर पर गैसों का आदान-प्रदान होता है यानी ऑक्सीजन पानी से गिल के रक्त में फैलता है ।

१०) सिन्टिडिया या गलफड़े के पानी से स्नान करने के बाद शरीर को दाहिनी नलिका के माध्यम से छोड़ दिया जाता है।

११) जब पानी प्रवेश करता है, तो यह सबसे पहले osphradium के संपर्क में आता है।

१२) ऑस्फराडियम पानी की गुणवत्ता का परीक्षण करता है और अगर यह अशुद्ध पाया जाता है, तो सभी अंगों को खोल में वापस ले लिया जाता है।

2) पल्मोनरी सैक (Pulmonary Sac) :

1) पल्मोनरी थैली एक बड़ी थैली जैसी संरचना है।

2) यह फुफ्फुसीय कक्ष में मेंटल गुहा की छत से लटका हुआ है।

3) यह फुफ्फुसीय कक्ष में फुफ्फुसीय छिद्र के माध्यम से खुलता है। Respiratory System OF PILA

4) इस एपर्चर को दो फ्लैप द्वारा संरक्षित किया जाता है जो एपर्चर के उद्घाटन और समापन को नियंत्रित करता है।

पल्मोनरी सैक की रक्त की आपूर्ति :

1) फुफ्फुसीय थैली की दीवारों को रक्त वाहिकाओं के साथ बड़े पैमाने पर आपूर्ति की जाती है।

2) एक फुफ्फुसीय शिरा थैली की दीवारों से रक्त एकत्र करती है और इसे हृदय तक ले जाती है।

फुफ्फुसीय थैली का ऊतक विज्ञान:

1) फुफ्फुसीय थैली की बाहरी दीवार में एक उपकला परत (उपकला) होती है जिसमें काले वर्णक दाने, ठीक होता है.

2) उपकला परत एक पतली तहखाने झिल्ली पर रखी गई है।

3) तहखाने की झिल्ली के नीचे संयोजी ऊतक की एक मोटी परत होती है।

4) और संयोजी ऊतक के नीचे अंतरतम परत निहित है जिसे एंडोथेलियल लेयर कहा जाता है

फुफ्फुसीय या एरियल या फेफड़े के श्वसन का तंत्र:

1) पिला फुफ्फुसीय थैली या फेफड़ों के माध्यम से श्वसन करता है जब यह जमीन पर होता है।

2) पानी के प्रदूषित या खराब होने पर फेफड़े के माध्यम से भी पिला श्वसन करता है । Respiratory System OF PILA

3) पानी की सतह के पास आने के बाद पशु अपनी बाईं नलिका को पानी से बाहर निकालता है।

४) फिर बायीं ओर की नलिका लम्बी लम्बी हो जाती है और एक नली का रूप लेती है जो पानी की सतह ऊपर प्रोजेक्ट करती है ।

5) पल्मोनरी चैम्बर बहुत बढ़ जाता है और पूरी तरह से शाखा कक्ष से कट जाता है।

6) साइफन के माध्यम से वायु फुफ्फुसीय थैली में प्रवेश करती है। Respiratory System OF PILA

7) पल्मोनरी में गैसों का थैली का आदान-प्रदान वैकल्पिक संकुचन और फुफ्फुसीय थैली विस्तार से होता है ।

8) जबकि पिला भूमि पर है, साइफन नहीं बनता है और वायु सीधे फुफ्फुसीय चैंबर में फैलता है जो सीधे विस्तारित नलिका के माध्यम से होता है।

9) हाइबरनेशन (शीतकालीन नींद) और सौंदर्यीकरण (गर्मियों की नींद) के दौरान, जानवर लंबे समय तक कीचड़ में दफन रहता है। इसका खोल ऑपाकुलम द्वारा बंद रहता है। इन शर्तों के तहत, पिला फुफ्फुसीय थैली में फंसे हवा के माध्यम से सांस लेते हैं।

३) नौशाल लोब Nuchal Lobe

1) सिर के दोनों ओर, मेंटल द्वारा निर्मित एक सिकुड़ा हुआ मांसल प्रक्षेपण होता है, जिसे न्यूकल लोब या स्यूडोपोडिया कहा जाता है।

2) बायां लोब दाएं से लंबा है।

3) सांस लेने के दौरान न्युक्लल लॉब्स लम्बी साइफन का निर्माण करते हैं।

आपको क्या सीखने मिला

दोस्तो आज आपको हमारे इस जानकारी से परिपूर्ण आर्टिकल से क्या सीखने मिला ? क्या इस आर्टिकल से आपके संकोच मिट गए ? वैसे तो मै आशा करता हु आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा क्युकी इसमे सभी जानकारी मुद्दे अनुरूप लिखी गयी है । Respiratory System OF PILA

लेकिन फिर भी अगर आपको इस आर्टिकल में कुछ कमी लगी हो तो वो नीचे कमेंट बॉक्स में बताए साथ ही आगर आपको कुछ भी संकोच या प्रश्न हो तो आप पूछ सकते है । मैं आपके संकोच को दूर करनेकी ओर प्रश्नों का उत्तर देनेका प्रयास करूंगा.आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमे येभी जरूर बताएं.( Respiratory System OF PILA)

इसीके साथ आप हमारे मोटिवेशन के ब्लॉग भी पढ़ सकते है जिसकी लिंक यह रही.Motivation
ओर इसीके साथ अगर आप ऑनलाइन पैसे कमाना चाहते है तो हमारा MAKE MONEY ONLINE इस केटेगरी भी जरूर विजिट करे । इसीके साथ आप हमारे Biology के ब्लॉग भी पढ़ सकते है Biology

हमारे इस (Respiratory System OF PILA ) आर्टिकल को पढ़ने के लिए बहोत बहोत शुक्रिया । तो मिलते है हमारे ऐसेही किसी नए INFORMATIVE आर्टिकल में ।धन्यवाद ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Family Stay Connected

0FansLike

Most Popular

शुक्रणुओंकी ऐसी जानकारी जो कोई नहीं बताएगा । Sperm Information In Hindi । Best 8 Points

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है शुक्रणुओंकी ऐसी जानकारी...

क्या रामायण से जुड़े हुए ये ६ रहस्य आपको पता है ? पढते ही चौंक जाओगे

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है क्या रामायण से...

सर्फ दो घंटो की बिजली कटौती में मुंबई परेशांन ? आखिर क्यों ?

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है सर्फ दो घंटो...

Corona Ka Ilaj Ghar Per Kaise Karen । कोरोना वायरस होने पर घर पर रहकर कैसे बचे ? अनुभव से जानकारी हिंदी में ।...

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है Corona Ka Ilaj...