Home Motivation Motivational Kahani In Hindi Of Dara Sing Randhava - 5 Biggest Success...

Motivational Kahani In Hindi Of Dara Sing Randhava – 5 Biggest Success – Motivation in Hindi

Motivational Kahani in hindi Of DARA SING RANDHAVA

एक ऐसे पहलवान की कहानी जो कभी नहीं हारे DARA SING RANDHAVA

दोस्तों, मेरा दिल गर्व से फूल जाता है जब मैं उन के नाम का उल्लेख करता हूं जिनके बारे में मैं आज आपको बताने जा रहा हूं। दारा सिंह रंधावा। आज मैं आपको सर दारा सिंग रंधावा के बारेमे एक विस्तार जानकारी देने जा रहा हु। जिससे आप प्रेरित होने वाले है। इस लेख के motivation in hindi story का शीर्षक Motivation In Hindi Story Of DARA SING RANDHAVA यह है।

दारा सिंह रंधावा अपने समय के सबसे महान और विश्व प्रसिद्ध फ्रीस्टाइल पहलवानों में से एक थे । उनकी पहलवानी को कोई तोड नहीं था। उस समय के सारे पहलवानोंको धूल चटाई थी इस लिए। हम उनसे प्रेरणा लेकर आपके लिए यह motivational kahani in hindi लेकर ए है। उन्होंने 1959 में पूर्व विश्व चैंपियन जॉर्ज गार्डियनका को हराया। उन्होंने राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप और इस प्रकार के कई अन्य मैच भी जीते।

दारा सिंह रंधावा (motivational story in hindi)

1968 में, उन्होंने बड़ेही आसानीसे उस समय के चैम्पियन अमेरिकी विश्व चैंपियन लवथ एस को हराया था ।और वे फ्रीस्टाइल कुश्ती में विश्व चैंपियन बने और पूरी दुनिया में अपना नाम बनाया। ऐसे विश्व चैंपियन दरसिंह रंधावा को श्रद्धांजलि।

Motivational Kahani in Hindi Of DARA SING RANDHAVA

दारा सिंह रंधावा (motivational kahani in hindi ) दोस्तों, मुझे एक बात बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि दारा सिंह 55 साल से कुश्ती कर रहे हैं, जिसमें उन्होंने 500 मैच सभी ज्यादा मैच लड़े हैं और यह गर्व की बात है कि वह उन 500 मैचों में कभी नहीं हारे हैं । सर डरा सींग से हमें बहोत ज्यादा motivation मिल सकता है। इस motivation kahani in hindi के जरिये आपमें हम प्रेरणा भर भर के देना चाहते है।

उन्होंने कुश्ती में अपनी किस्मत आजमायी और उसमे हर कदम पर सफल रहे उनकी सफलता का राज उनके अंदर जग उठा motivation अर्थात जग उठी प्रेरणा थी। हमें भी उनसे प्रेरणा अर्थात motivation ( in hindi) लेना चाहिए। दोस्तों उन्होंने अपने मन में एक ऐसी प्रेरणा जगाई एक ऐसा विश्वास जगाया की उस विश्वास उस प्रेरणा motivation विश्व का सबसे बड़ा खिलाडी बना दिया।

motivational story in hindi Of DARA SING RANDHAVA .कुश्ती में अपनी किस्मत आजमाने के बाद, उन्होंने अभिनय में भी अपना नाम बनाया और अनेक super hit फिल्मो में काम किया और अपने अभिनय से भी लोगोको अर्थात दर्शकोको चकित कर दिया ।

पहलवान दारासिंह का जन्म 19 नवंबर 1928 को अमृतसर, पंजाब के एक छोटे गाँवमें बलवंत कौर और सूरत सिंह रंधावा के धर्मवचक में हुआ था । दोस्तों आपको जानकर हैरानी होगी की (Motivational Kahani in Hindi Of) सर DARA SING RANDHAVA को बचपन में कुस्ती या फिर मर पिटाई करना पसंद नहीं था वे शांत स्वभाव के थे।

ऐसेही किसीके कहने पर और time pass करने के लिए वे कुस्ती खेल लिया करते थे। लेकिन लोगोने और उनके पिता चाचा ने उनकी ताकद और कुस्ती के तकनीक को भांप लिया था। इनके पिताको शायद उसी वक्त पता चल गया था की वे अगर इस कुस्ती खेल के लिए प्रेरणा देते है अर्थात उत्साहित करके motivation और प्रोत्साहन देते है तो शायद वे बड़े होकर पूरी दुनिया में अपने देशका नाम रोशन कर सकते है। (Motivational Kahani in Hindi)

दारा सिंह रंधावा के पिता ने उन्हें support किया motivation दिया लेकिन जो करना था वो तो दारा सिंह रंधावा कोही करना था। क्योकि दोस्तों वो कहते है न की कोई हमें थाली में खाना तो देसकता है लेकिन उसे खाना तो हमहि होता है। Motivational Kahani in Hindi

कुछ समय पहलवानी के साथ गुज़रनेके बाद कम उम्र में, अपनी ऊंचाई और वजन को देखते हुए, उन्होंने कुश्ती के क्षेत्र में भाग्य बनाना शुरू कर दिया। अपने करियर की शुरुआत में, उन्होंने एक स्थानीय पहलवान की धूल चाटना शुरू कर दिया। वे बहोत ऊँचे कद काठी वाले व्यक्ति थे उन्हें देख कर सामने वाला प्रतिद्वंदी ऐसेही घबरा जाता था।

उनका भारी भरकम शरीर ही उनके प्रतिद्वंदी को पसीने छोड़ देता था। और कमजोर होनेकी वजहसे वे प्रतिद्वंदी अपना motivation खो देते थे। और यह एक वजह दारा सिंह रंधावा के लिए काफी थी। इस चीज का दारा सिंह रंधावा केपूरा फायदा उठाते थे। और उन्हें इस तरह पटकते थे की वह फिर कभी लड़ ही न पाए।(Motivational Kahani in Hindi)

उनके करियर और कुश्ती को देखकर हर कोई उनका प्रशंसक बन गया। अपना वजन, कद और बड़ी छाती देखकर वह बड़े बड़े पहलवान पसीने से तरबतर हो जाता था।(Motivational Kahani in Hindi) दारा सिंह रंधावाजीने धीरे-धीरे कई पुरस्कार जीत लिए और खुद का नाम बनाया है । उनका खेल और कुस्ती ही कुछ इतनी उम्दा थी की उन्हें अपना नाम रोशन करनेसे कोई रोक ही नहीं पाता।

दारा सिंह रंधावाजीने अपनी खुद की क्षमताओं और ताकत को जानने के बाद, उन्होंने महसूस किया कि उन्हें विदेशों में पहलवानो को हराने के लिए विदेशी मैच खेलना होगा और भारत के नाम को ऊंचाई पर ले जाना होगा । लेकिन उसके लिए उन्हें कुछ नए कुस्ती के नए पैतरे भी सिखने होंगे और इसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की दिन रात सिर्फ कुस्ती ही कुस्ती ही उनके दिलो दिमाग पर छा गई थी। उनके लिए एकहि Motivation था की भारत का नाम पूरी दुनिया में रोशन करना है।

ऐसाही motivation अगर हम अपने जीवन में लाये तो किस हद तक हम प्रगति कर सकते है इसका अंदाज़ा आपको नहीं होगा। क्युकी motivation की power अर्थात शक्ति को कोई तोड़ इस दुनियामे नहीं है। जो व्यक्ति अपने अंदरूनी ताकत से वाकिफ हो जाता है जिसके मन में एक नया विश्वास और उमग तथा motivation जग जाता है वह हर व्यक्ति अपने carrier में दारा सींग बन सकता है। चलिए कहानी की और बढ़ते है (Motivational Kahani in Hindi)

ऐसेही कुछ नए कौशल और पैतरे सीखने के बाद वह विदेश चले गए और कई पहलवानों को धो दिया। उनके नए पैतरे सामने वाले प्रतिद्वंदी को इस तरह प्रभावित और चकमा दे देता था की उन्हें हरनेसे कोई नहीं बचा सकता था। उन्होंने विश्व प्रसिद्ध चैंपियन जैसे बिलवर्ण, जॉन डीसिल्वा, डैनियल लिंच को हरा दिया और 1960 में विश्व प्रसिद्ध हो गए । उनकी प्रसिद्धि कुछ इस तरह हो रही थी जैसे हवा में किसी खुशबू को बिना फैलाये वो फ़ैल जाये उनके पैतरे हवा को चकमा देते थे।

दारा सिंह रंधावा (Motivational Kahani in Hindi)

दारा सिंह के जीवनमे एक बहोत बड़ा प्प्रसंग आया जब उन्होंने उस समय के सबसे खतरनाक खिलाडी किंग कॉंग को मैच के लिए चुनौती दी। दारा सिंह द्वारा किंग कांग को एक ऐसे समय में चुनौती दी गई थी जब वह किंग कोंग उस सदी का सबसे बड़ा खिलाडी था। जब दारा सिंग जीने उसे चुनौती दी तब हर कोई डर गया था।Motivational Kahani in Hindi

क्यूको किंग कांग का वजन 200 किलो और दारा सिंह का वजन 130 किलो था ।सब लोग यह सोचने लग गए की डरा सींग का वजन किंग कोंग से लगभग आधा था। अपने वजन से दोगुना शरीरी के इंसान को दारा सिंग कैसे हराएंगे। इस ऑस्ट्रेलियाई पहलवान किंग कोंग ने उस समय के सभी विश्व रिकॉर्ड जीते थे । और अंतराष्ट्रीय सीमाके सारे रिकॉर्ड में अपना डर बनाया था।

दारा सिंह ने उन्हें तब भी चुनौती दी जब उन्हें हराना बहुत मुश्किल था ।इससे आप समझ सकते हो की दारा सींग के मन में motivation की सिमा किस हद तक बढचुकि होगी। क्युकी दारा सिंगने भी कई रिकार्ड्स अपने नाम किये थे। कई रिकार्ड्स जितने के बाद या फिर किसी में कौशल्य और जित मिलने के बाद उसमे अपना confidence बढ़ जाता है और motivation की सिमा बढ़ जाती है। Motivational Kahani in Hindi

वह दिन आया जब मैच शुरू हुआ और मैच की शुरुआत मेंही दारासिंह ने अचानक आक्रामक रूप ले लिया और 200 किलो के पहलवान को सर के बल पकड़के निचे पटक दिया और अगले ही पल उन्हें रिंग से बाहर कर दिया गया और कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप जीत ली । इससे दारासिंह के मन का विश्वास और शरीर के ताकत की हमें अनुभूति हो सकती यही।

ये उनके मन का विश्वास ही था जो उन्होंने २०० किलोके भरी शरीर को उठाकर पटक दिया । Motivational Kahani in Hindi

Motivational Kahani In Hindi
Motivational Kahani in Hindi-Motivational Kahani In Hindi image source

दारा सिंह रंधावा को मिले हुए सम्मानचिन्ह

दारा सिंह रंधावा को रुस्तम-ए-हिंद, कॉमनवेल्थ चैंपियन वर्ल्ड रेसलिंग जैसे कई प्रमुख खिताबों से सम्मानित किया गया है । वह अपने जीवन में कभी भी मैच नहीं हारे । हर मैच पे नए पैतरे और नए देव खेल कर उन्होंने हर मैच में काबिलियत जताई। उन्होंने 1983 में अपना आखिरी मैच जीतने के बाद कुश्ती से संन्यास ले लिया ।

दारा सिंह रंधावा motivational story in hindi

कुश्ती जीतने के बाद , उन्होंने अभिनय के क्षेत्र में भी काम किया । अभिनय क्षेत्र में शुरुवाती समय में उन्हें थोड़ी तकलीफ हुई लेकिन उनका मनोबल और विश्वास बहोत बड़ा था। उन्होंने 1952 में संगदिल के साथ अपनी फिल्म की शुरुआत की। उन्होंने तत्कालीन प्रसिद्ध अभिनेत्री मुमताज के साथ कई स्टंट फिल्में कीं , इन्होने फिल्म में एक स्टंट अभिनेता के रूप में अपना करियर शुरू किया।

दारा सींग हनुमान (motivational story in hindi)

दारा सिंह रंधावा उनकी कुछ प्रसिद्ध फ़िल्में मर्द ,फौलाद हैं। आप सभी जानते होंगे लेकिन कुछ नहीं जानते होंगे की दारा सिंह ने रामायण की पहली श्रृंखला में हनुमान की भूमिका स्वीकार की थी । तब दारा सिंह उस भूमिका के माध्यम से घर पहुंचे। अभिनय के माध्यम से, उन्होंने हनुमान की भूमिका को ज्वलंत और जीवंत माना था। उन्होंने एक अभिनेता, निर्देशक और लेखक के रूप में भी काम किया। वह अटल बिहारी वाजपेयी के राज्यसभा सदस्य थे ।

motivational story in hindiMotivational Kahani in Hindi image source

जब इंसान को motivation और success मिलता है तब वह हर नयी ऊंचाई तक पोहच जाता है। बस जरुरत होती है आत्मविश्वास motivation की।

वह अगस्त 2003 से अगस्त 2009 तक लगातार छह वर्षों तक संसद सदस्य रहे। एक सफल करियर के बाद , उन्हें 7 जुलाई 2012 को दिल का दौरा पड़ा और उन्हें तुरंत कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

उन्हें लगातार पांच दिनों के लिए मुंबई में उनके घर से छुट्टी दे दी गई । उन्होंने 12 जुलाई, 2012 को सुबह लगभग 7 बजे अंतिम सांस ली। दारा सिंह, जो अपने किसी भी कुश्ती मैच में नहीं हारे, अपने जीवन के मैचों में हार गए। और उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।मुझे यकीन है कि यह जानकारी आपके ज्ञान में जुड़ गई है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में दें। धन्यवाद !

Motivational Story in Hindi

Motivational Story in Hindi या Motivational Kahani in Hindi यह सिलसिला आगे चालू रहेगा इसकी मई आपको शास्वती देता हु। Motivational Kahani in Hindi हमें अपने कम में लगन लगाने के ऊर्जा देती है। Motivational Kahani in Hindi एक ऐसा स्त्रोत है जहा आप अपने आपको confident महसूस करते हो।

Motivation मिलना बहोत जरुरी है लेकिन उसे अपने आप तैयार करना सबसे बड़ा हुनर है। अगर आपके अंदर Motivation बना लेते हो तो आप जगत से सबसे होशियार व्यक्ति बन सकते हो। हो शायद मई आपके मिसाल देकर आपकेलिए Motivational Kahani in Hindi लिखू जो बाकिओको motivate करे। आज के लिए इतनाही। धन्यवाद।

हमारे Facebook Page और Instagram Page को join करना न भूले क्योकि वह हम Motivational Story in Hindi / Motivational Kahani in Hindiकी नयी पोस्ट की चर्चा करते है और उसकी notification भी देते है । मिलते है नए किसी लेख में।

other links

4 COMMENTS

  1. […] दारा सिंह रंधावा अपने समय के सबसे महान और विश्व प्रसिद्ध फ्रीस्टाइल पहलवानों में से एक थे । उनकी पहलवानी को कोई तोड नहीं था। उस समय के सारे पहलवानोंको धूल चटाई थी इस लिए। हम उनसे प्रेरणा लेकर आपके लिए यह motivational kahani in hindi लेकर ए है Motivational Kahani In Hindi Of Dara Sing Randhava – 5 Biggest Success – Motivation in Hindi […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Family Stay Connected

0FansLike

Most Popular

शुक्रणुओंकी ऐसी जानकारी जो कोई नहीं बताएगा । Sperm Information In Hindi । Best 8 Points

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है शुक्रणुओंकी ऐसी जानकारी...

क्या रामायण से जुड़े हुए ये ६ रहस्य आपको पता है ? पढते ही चौंक जाओगे

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है क्या रामायण से...

सर्फ दो घंटो की बिजली कटौती में मुंबई परेशांन ? आखिर क्यों ?

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है सर्फ दो घंटो...

Corona Ka Ilaj Ghar Per Kaise Karen । कोरोना वायरस होने पर घर पर रहकर कैसे बचे ? अनुभव से जानकारी हिंदी में ।...

तो कैसे है दोस्तो आप । मैं आपका स्वागत करता हु आपका हमारे नए आर्टिकल में जिसका नाम है Corona Ka Ilaj...